The decision to take the board exam this way, this class will get benefits, बोर्ड की परीक्षा इस बार इस तरह से लेने का हुआ निर्णय,इस वर्ग को मिलेगा लाभ

The decision to take the board exam this way, this class will get benefits, बोर्ड की परीक्षा इस बार इस तरह से लेने का हुआ निर्णय,इस वर्ग को मिलेगा लाभ

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। कोरोना वायरस के चलते 2 महीना की देरी के बाद मप्र माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा  10वीं हाईस्कूल और 12वीं हायर सेकण्डरी परीक्षा 30 अप्रैल से शुरू होने जा रही है। इसमें खास बात ये है कि MP Board की बोर्ड परीक्षाओं में पहली बार सामान्य और दिव्यांग विद्यार्थी एक साथ शामिल होंगे। इससे पहले हर साल दिव्यांग विद्यार्थियों की परीक्षा अलग समय पर अलग तरीके से आयोजित की जाती रही है।

दरअसल, मध्य प्रदेश में तेजी से फैल रहे कोरोना संक्रमण और तय समय से देरी के चलते  माध्यमिक शिक्षा मंडल मध्यप्रदेश MP Board  ने यह फैसला लिया है कि इस बार 10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षाएं सामान्य और दिव्यांग छात्रों की परीक्षाएं एक साथ करवाई जाएंगी। जब 2020 से पहले यह व्यवस्था थी कि सामान्य और दिव्यांग छात्रों की परीक्षाएं अलग अलग करवाई जाएगी।

हर साल सुबह 9 से दोपहर 12 बजे तक सामान्य विद्यार्थियों और दोपहर 1 बजे से 4 बजे तक दिव्यांग विद्यार्थियों के लिए प्रश्‍नपत्र हल  करने का रखा जाता था। हर साल प्रदेश में तकरीबन 5 हजार दिव्यांग विद्यार्थी बोर्ड परीक्षा में शामिल होते हैं। लेकिन इस बार दोनों की एक साथ परीक्षा कराने का फैसला लिया है। इस साल बोर्ड परीक्षाओं में करीब 19 लाख विद्यार्थी शामिल होंगे।

बता दे कि मप्र में 170 स्कूलों में से 74 स्कूल ऐसे है, जहां दिव्यांग छात्र-छात्राएं पढ़ते है। इनमें 51 प्राथमिक एवं 23 माध्यमिक स्कूल शामिल हैं। इन स्कूलों में दिव्यांग छात्रों की संख्या 44 फीसद है।वही प्रदेश के 58 फीसद सरकारी स्कूलों में तो रैंप ही नहीं बने हैं, जिसके चलते छात्रों को कई कठिनाईयों का सामना करना पड़ता है।
बता दे कि स्कूल शिक्षा विभाग के फैसले के बाद माध्यमिक शिक्षा मंडल के नए टाइम टेबल के अनुसार, 10वीं की हाईस्कूल परीक्षा 30 अप्रैल से 19 मई 2021 और 12वीं की हायर सेकण्डरी परीक्षा 01 मई से 21 मई 2021 तक संचालित होगी। संशोधित परीक्षा कार्यक्रम मण्डल की वेबसाईट http://mpbse.nic.in पर भी देखे जा सकते है।