बड़ोखर हादसा- मृतक के परिजनों के बीच ढाढ़स बंधाने पहुचे रामजनम

बड़ोखर हादसा- मृतक के परिजनों के बीच ढाढ़स बंधाने पहुचे रामजनम

5 हजार रूपये का किया आर्थिक सहयोग,मुख्यमंत्री ने 2 लाख रूपये सहयोग देने की की थी घोषणा

 

 

अनोखी आवाज़ सिंगरौली, बरगवां। रविवार सुबह मध्यप्रदेश के सिंगरौली जिले के बरगवां थाना इलाके में ऑटो और कार की भीषण टक्कर हुई। इस टक्कर में 3 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई वही एक घायल की इलाज के दौरान अस्पताल में ले जाते समय मौत हो गई। इस दर्दनाक हादसे में प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने दुःख जताया है और मृतक के परिवार को 2 लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने का ऐलान किया है। वही उक्त घटना की जानकारी जब रामजनम वर्मा,जिलाध्यक्ष अनुसूचित जाति मोर्चा को लगी तो फ़ौरन पीड़ित परिजनों के घर पहुचकर ढाढ़स बंधाया। इतना ही नही बल्कि पीड़ित परिवार को 5 हजार रूपये का आर्थिक सहयोग कर कहा कि आपने अपना एक लाल खोया है दूसरा लाल रामजनम के रूप में समझिए जब आवश्यकता हो निःसंकोच याद कीजियेगा मैं हर संभव मदद करूँगा।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

ये था पूरा मामला

बरगवां थाना इलाके के बड़ोखर गांव में ऑटो और कार के बीच आमने-सामने की टक्कर हुई है टक्कर इतनी जबरदस्त थी की ऑटो के परखच्चे उड़ गए और ऑटो में सवार 3 यात्रियों की मौके पर ही मौत हो गई। गंभीर घायलों को बैढन के जिला अस्पताल के लिए रवाना किया गया। घायलों में दो की हालत गंभीर बनी हुयी थी जिसमे एक घायल की इलाज के दौरान मौत हो गई जबकि एक घायल को इलाज के रीवा रिफर किया गया है।मृतकों में सेवरनिया पति परमसुख 50 वर्ष निवासी बड़ोखर, सुंदरमणी केवट पति शुभम केवट ग्राम देवरी, विनय साकेत पिता माया राम साकेत 25  वर्ष, अरुण साकेत पिता राम गरीब निवासी की मौत हो गई थी।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

मुख्यमंत्री ने जताया दुःख

घटना के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दुःख व्यक्त किया है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा की प्रदेश सरकार की ओर से दुर्घटना में हताहत हुए परिजनों को 2 लाख रुपये तथा संबल हितग्राहियों के परिवारों को 4 लाख रुपये की आर्थिक सहायता दी जायेगी।

 

 

 

वही युवा नेता मृतक के परिजनों से मिलकर हर संभव मदद दिलाने का आश्वासन दिया उन्होंने कहा कि बीमा क्लेम संबल योजना सहित सरकारी योजनाओं का लाभ दिलवाने गा वह मौके पर ही 5 हजार का आर्थिक सहयोग कर इस दुख की घड़ी में परिजनों को ढाढस बंधाया।