Sunday, February 5, 2023
Homeधर्म-त्यौहारBasant Panchami 2023: पंचमी के दिन क्यों की जाती है मां सरस्वती...

Basant Panchami 2023: पंचमी के दिन क्यों की जाती है मां सरस्वती की पूजा, जानिए धार्मिक महत्व

Basant Panchami 2023: बसंत पंचमी को माघ पंचमी के नाम से भी जाना जाता है। इस बार बसंत पंचमी Basant Panchami 2023 का पर्व 26 जनवरी को मनाया जा रहा है. इस दिन मां सरस्वती की पूरे विधि-विधान से पूजा की जाती है। माघ मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को बसंत पंचमी मनाई जाती है। इस दिन से भारत में वसंत ऋतु की शुरुआत होती है। बसंत पंचमी को माघ पंचमी के नाम से भी जाना जाता है।.

Basant Panchami 2023
Basant Panchami 2023

पंचमी के दिन क्यों होती है सरस्वती पूजा

पुराणों के अनुसार बसंत पंचमी के दिन ही मां सरस्वती का जन्म हुआ था। मान्यता है कि वसंत पंचमी के दिन ज्ञान और विद्या की देवी मां सरस्वती सृष्टि के रचयिता भगवान ब्रह्मा के मुख से प्रकट हुई थीं। इसलिए इस दिन सरस्वती माता की विशेष पूजा का आयोजन किया जाता है।

Herbal Farming: इलायची की खेती कर कमा सकते है अधिक मुनाफा, जानिए कैसे

मां सरस्वती को विद्या, बुद्धि, संगीत, कला और ज्ञान की देवी माना जाता है। इस दिन मां सरस्वती से ज्ञान, विद्या, कला और ज्ञान का वरदान मांगा जाता है। मां सरस्वती को पीला रंग बेहद प्रिय है। इसलिए इस दिन लोग पीले वस्त्र पहनकर और पीले पकवानों का भोग लगाकर मां सरस्वती को प्रसन्न करने का प्रयास करते हैं। मां सरस्वती को बागीश्वरी, भगवती, शारदा, वीणावादनी और वाग्देवी समेत कई नामों से पूजा जाता है।

बसंत पंचमी का महत्व 

Basant Panchami 2019 Messages Saraswati Status Wishes Images - Basant  Panchami 2019 आज: इन messages से दें सबको वसंत पंचमी की शुभकामनाएं
Basant Panchami 2023

बसंत पंचमी के दिन सरस्वती की पूजा की जाती है। इस दिन मां सरस्वती की कृपा पाने के लिए सरस्वती स्तोत्र का पाठ करना चाहिए। इस दिन सभी स्कूलों और कॉलेजों में मां सरस्वती की पूजा की जाती है. इस दिन पीले वस्त्र धारण करने और दान करने का बहुत महत्व माना जाता है।

Singrauli News:फाइनल में सिंगरौली की टीम ने सतना को 9 विकेट से हराया

ऐसा माना जाता है कि इस दिन देवी सरस्वती की पूजा करने से ज्ञान और बुद्धि का आशीर्वाद मिलता है। कई जगहों पर बसंत पंचमी के दिन देवी सरस्वती के साथ-साथ भगवान विष्णु की भी पूजा की जाती है. इस दिन मां सरस्वती को खिचड़ी और पीले चावल का भोग लगाया जाता है। बसंत पंचमी के दिन से ठंड कम होने लगती है और अनुकूल वातावरण बनने लगता है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments