LJP सांसद प्रिंस राज के खिलाफ केस दर्ज, बलात्कार का लगा आरोप, FIR में चिराग पासवान का भी नाम

LJP सांसद प्रिंस राज के खिलाफ केस दर्ज, बलात्कार का लगा आरोप, FIR में चिराग पासवान का भी नाम

नई दिल्ली। लोक जनशक्ति पार्टी के सांसद और चिराग पासवान के चचेरे भाई प्रिंस राज पासवान के खिलाफ राजधानी दिल्ली के कनॉट प्लेस थाने में बलात्कार का मामला दर्ज किया गया है। जानकारी के मुताबिक, ये केस दिल्ली की एक अदालत के आदेश के बाद दर्ज किया गया है। पुलिस ने प्रिंस राज पासवान के खिलाफ एक महिला की शिकायत के आधार पर आईपीसी की धारा 376, 376 (2) (के), 506, 201, 120 बी के तहत शिकायत दर्ज की है।

 

 

 

 

 

 

 

आपको बता दें कि प्रिंस राज पासवान बिहार के समस्तीपुर से लोकसभा सांसद हैं और वो उन पांच सांसदों में शामिल थे, जिन्होंने बगावत कर चिराग पासवान को पार्टी के नेतृ्त्व से हटा दिया था। वहीं प्रिंस राज पर रेप के आरोप लगाने वाली महिला भी लोजपा की ही पूर्व पदाधिकारी रही है। महिला ने तीन महीने पहले प्रिंस पर रेप के आरोप लगाए थे। महिला ने अपनी शिकायत में बताया है कि प्रिंस ने उनके साथ रेप किया और उसके बाद जान से मारने की धमकी भी दी। दिल्ली पुलिस के एक अधिकारी ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि कोर्ट का निर्देश गुरुवार को आया था, जिसके बाद मामला आज दर्ज किया गया है।

 

 

 

 

 

 

 

 

- आरोप लगाने वाली महिला ने अपनी शिकायत में बताया है कि प्रिंस राज पासवान ने उनका यौन शोषण किया था। आपको बता दें कि इससे पहले चिराग पासवान ने भी अपने चचेरे भाई पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा था कि प्रिंस राज पार्टी की ही एक महिला नेता के साथ सैक्शुअल एक्ट में शामिल थे, जो उन्हें ब्लैकमेल कर रही थी। 29 मार्च को चिराग पासवान ने एक पत्र ट्वीट किया था, जिसमें प्रिंस राज के खिलाफ पार्टी की एक महिला कार्यकर्ता द्वारा यौन उत्पीड़न की शिकायत का जिक्र किया गया था।

 

 

 

 

 

 

- चिराग पासवान ने कहा था कि प्रिंस का ये मामला जब मेरे संज्ञान में आया तो मैंने प्रिंस को पुलिस में शिकायत दर्ज कराने का सुझाव दिया था। साथ ही मैंने पशुपति कुमार पारस से इस बारे में चर्चा की थी, जो मेरे परिवार में बड़े हैं, लेकिन उन्होंने इसे गंभीरता से नहीं लिया।

आपको बता दें कि इसी साल जून में एलजेपी के पांच सांसदों ने बगावत कर चिराग पासवान को पार्टी के नेतृत्व से हटा दिया था। साथ ही चिराग पासवान के चाचा पशुपति पारस ने पार्टी पर कब्जा कर लिया था। पशुपति पारस के समर्थन में प्रिंस के अलावा महमूद अली कैसर, वीना देवी और चंदन सिंह बागी सांसदों में शामिल थे।