क्या न्यायालय के निर्णयों में भी ‘‘न्याय’’ के साथ ‘‘संतुलन’’ का ‘‘भाव’’ दिखता है?

संविधान की तीन स्तंभों में सबसे महत्वपूर्ण न्यायपालिका की ‘‘माननीय न्यायालय’’ का काम ‘‘सिर्फ और सिर्फ’’ ‘‘न्याय’’ देने का ही होता है। ‘‘न्याय’’ देते समय न्यायालय को सिर्फ न्याय देने पर ही ध्यान केन्द्रित करना होता है। न्यायालय के आस-पास विद्यमान ‘‘परिसर’’ से लेकर, बाहर क्या परिस्थितियां, घटनाक्रम चल रहा है, उससे प्रभावित हुए बिना … Read more

‘‘सूरत’’ का सच! ‘‘निर्विरोध अथवा ‘‘विरोध’’ पर ‘सत्ता बल’ भारी?

‘‘निर्विरोध’’ चुनाव सूरत! वर्ष 2024 के लोकसभा चुनाव की जिस धमाकेदार तरीके से आगाज भाजपा खास कर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने की है, इसकी एक बानगी ‘‘हीरा’’ नगरी ‘‘सूरत’’ से भाजपा उम्मीदवार मुकेश दलाल का निर्विरोध चुना जाना है। भाजपा के इतिहास में वे पहले निर्विरोध सांसद होकर एक साथ ‘हीरा’ और ‘‘हीरो’’ बन गए … Read more