जबलपुर में सोमवार को SAHARA के खिलाफ कांग्रेस का बड़ा आंदोलन

जबलपुर में सोमवार को SAHARA के खिलाफ कांग्रेस का बड़ा आंदोलन

 

 

 

 

 

 

जबलपुर। SAHARA इंडिया कंपनी की विभिन्न सोसाइटियों में निवेश कर फसे निवेशकों का विशाल सम्मेलन जबलपुर में होने जा रहा है। दरअसल मुख्यमंत्री और गृहमंत्री के लाख कहने के बाद भी जबलपुर में अब तक सहारा के निवेशकों की फरियाद नहीं सुनी गई है।

 

 

 

 

 

जबलपुर के सिविक सेंटर में कांग्रेस नेता सौरव शर्मा नाटी के मार्गदर्शन में एक विशाल निवेशक सम्मेलन होने जा रहा है। इसमें सहारा इंडिया की स्कीमों में पैसा फसे कई पीड़ित निवेशक भाग लेंगे। दरअसल सहारा ने सालों से अपनी विभिन्न स्कीमों में लोगों का भारी निवेश कराया है। लेकिन परिपक्वता अवधि पूरी होने के बाद भी लोगों का पैसा वापस नहीं हुआ है।

 

 

 

 

 

 

सौरव शर्मा के अनुसार अकेले जबलपुर जिले में तीन लाख से ज्यादा निवेशकों के लगभग 700 करोड रुपए सहारा की विभिन्न स्कीमों में फंसे हुए हैं। हैरत की बात यह है कि मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा के साफ निर्देश है कि सहारा की चिट फंड स्कीमों में फंसे विभिन्न लोगों के पैसे वापस दिलाने के लिए प्रशासन व पुलिस कड़ी कार्रवाई करें। इसके अलावा सिविक सेंटर्स में निवेशक सम्मेलन के बाद कांग्रेस कलेक्ट्रट तक पैदल मार्च भी करेगी।

 

 

 

 

 

 

सहारा के मालिक सुब्रतो राय के खिलाफ अकेले मध्यप्रदेश में पुलिस रिपोर्टो का शतक पूरा होने का है। बावजूद इसके जबलपुर में न तो पुलिस और ना ही प्रशासन फरियादियों की फरियाद सुन रहा है। ऐसे में कांग्रेस को बैठे-बिठाए एक मुद्दा मिल गया है और कांग्रेस नेता सौरभ शर्मा के नेतृत्व में निवेशक भी एक हो चुके हैं। 20 अक्टूबर को भी निवेशकों के साथ कांग्रेस नेताओं ने कैंडल मार्च निकाला था। अब देखना यह है कि ऐसे पीड़ित गरीब निवेशकों की सुनवाई के लिए प्रशासन क्या कार्रवाई करता है।