उद्घाटन के पहले ही टूटा करोड़ों का पुल,प्रशासन की होने लगी किरकिरी

उद्घाटन के पहले ही टूटा करोड़ों का पुल,प्रशासन की होने लगी किरकिरी

 

 

रांची  तीन वर्ष से पुल बनकर तैयार है लेकिन ग्रामीणों का कहना है कि निर्माण में की गई अनदेखी की वजह से पुल का विधिवत उद्घाटन रुका हुआ था।

आवाजाही शुरू थी। अचानक से पुल टूटकर धराशाई हो गया। जिसके निर्माण में करोड़ांे रुपये खर्च किये गये थे। 

तमाड़ नदी में बना था पुल

जानकारी के अनुसार रांची के तमाड़ में कांची नदी पर बना पुल यास तुफान का एक झटका भी नही सह सका और टूटकर नदी पर आ गिरा।

बताया जाता है कि यह पुल बुंडू इलाके के प्रसिद्ध हाराडीह मंदिर के पास बना था। इस पुल का निर्माण हुए अभी मात्र तीन साल ही बीते होंगे और यह धराशाई होकर नदी में समा गया।  

अवैध बालू की निकासी प्रमुख कारण

ग्रामीणो की माने तेा पता चलता है कि यास तूफान की वजह से विगत दो दिनो से रह-रह कर बारिश हो रही है। बारिश की वजह से नदी के पानी में तेजी आ गई।

बारिश के पहले तक कांची नदी से हजरों टन से ज्यादा अवैध रेत की निकासी होती थी। पुल ढहने का यह भी एक महत्वपूर्ण कारण माना जा रहा है। 

 

 

 

पहले टूट चुके हैं और पुल

स्थानीय ग्रामीणों ने बताया कि कांची नदी पर बने सोनाहातु का हारीन पुल और तमाड़ का बालमडीह पुल पहले ही ध्वस्त हो चुका है। अब हाराडीह पुल भी ध्वस्त हो गया। पुल के ध्वस्त होने की जानकारी मिलते ही वहां भारी भीड़ जमा हो गई।

 

पुल के नजदीक बसे गांव के लोगों का कहना है कि अवैध बालू की निकासी की शिकायत कई बाद प्रशासन से की गई लेकिन कोई इस ओर ध्यान नही दे रहा था।नदी से बालू निकालने का क्रम बारिश के पहले तक चलता रहा।