ये ट्रिक अपनाइये छिपकली घर में घुसने से पहले 100 बार सोचेगी

ये ट्रिक अपनाइये छिपकली घर में घुसने से पहले 100 बार सोचेगी

 

 

भारत में छिपकली किसी फेमिली मेंबर की तरह है। ज़्यादातर घरों में छिपकली दीवारों और दराजों के पीछे छुपी बैठी रहती है और घर के अंदर घुसने वाले कीट/पतंगों को खा कर अपना पेट भर्ती है। इंडिया में छिपकली से लोग डरते भी हैं क्योंकि इसकी स्किन ज़हरीली होती है लेकिन ये कटती किसी को नहीं, बेचारी के दांत ही नहीं होते हैं। वैसे छिपकली जब किसी ने ऊपर कूद जाए तो इंसान के मुँह से चीखें ज़रूर निकल आती हैं और कुछ लोग तो छिपकली के कूद जाने के बाद नहाते हैं। अगर आपके घर में भी ये डरावना जानवर रहता है और कई कोशिशे करने के बाद भी इनसे छुटकारा नहीं मिल रहा है तो हमारी बताई हुई ट्रिक को अपनाइये, ये नन्हा ड्रैगन दोबरा घर में घुसने से पहले 100 बार सोचेगा।

 

 

काली मिर्च का स्प्रे

छिपकली को जान से नहीं मारें बेचारी हमारा तो कोई नुकसान करती नहीं है। बल्कि घर में घुसने वाले इंसेक्स्ट को खाकर ये हमारा फायदा ही करती है। फिर भी आप इससे छुटकारा पाना चाहते हैं तो काली मिर्च का स्प्रे का इस्तेमाल कर सकते हैं। जहाँ भी आपको छिपकली दिखे उसके ऊपर स्प्रे कर दीजिए। इससे छिपकली जो जलन होती है और वो दोबरा उस जगह पर आना ही बंद कर देती है।

 

ठंडा पानी

छिपकली का खून ठंडा होता है, इसी लिए वह गर्म जगह में रहना पसंद करती है। आप अगर छिपकली पर ठंडा पानी डालेंगे तो उसकी स्पीड धीमी हो जाएगी, इसके बाद उसे पकड़ कर घर से दूर फेंकने में आसानी होगी।

 

मोर पंख

छिपकलियों को मोर से बहुत डर लगता है। जहाँ मोर का पंख रखा होता है वहां छिपकलियां आने की सोचती तक नहीं हैं, आप अपने घर की दीवारों और कोनों में मोरपंख रख सकते हैं।

फिनाइल की गोलियां

 

फिनाइल की गोलियों की गंध काफी तेज़ रहती है, जो छिपकली को बिलकुल अच्छी नहीं लगती। अपने घर की दराजों और कोनों में आप किसी कपडे में लपेट कर फिनाइल की गोलियां रख सकते हैं। बस उन्हें बच्चों की पहुंच से दूर रखियेगा।

अंडे के छिलके

आप चाहें तो अंडे के छिलकों से भी छिपकलियों से छुटकारा पा सकते हैं। उनसे निकलने वाली गंध को छिपकली सहन नहीं कर पाती और गुस्सा होकर घर छोड़ कर चली जाती है।

प्याज

छिपकली को प्याज की गंध भी बिलकुल पसंद नहीं होती है। आप प्याज के टुकड़ों को भी घर के कोनों में रख कर छिपकली को भगा सकते हैं। यही काम लहसुन से भी हो सकता है।