दोस्त ने की दोस्त की हत्या:पहले गाली-गालौज फिर तालाब में धक्का दिया 3 माह बाद ऐसे खुला राज

दोस्त ने की दोस्त की हत्या:पहले गाली-गालौज फिर तालाब में धक्का दिया 3 माह बाद ऐसे खुला राज

 

 

 

भोपाल बड़ा तालाब के प्रेमपुरा घाट पर दोस्त ने ही युवक को पानी में धक्का देकर गिरा दिया। इसमें युवक की मौत हो गई। पुलिस ने आरोपी को दिल्ली से गिरफ्तार किया है। वह हत्या के बाद दिल्ली में फरारी काट रहा था। खर्च के लिए हजरत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन के पास ही भीख मांगता था। घटना 8 जुलाई 2021 को हुई थी। तीन महीने बाद अब मामले का खुलासा हुआ है। पता चला है कि दोनों के बीच नशे की हालत में विवाद हुआ था। घटना के बाद आरोपी दोस्त की एक्टिवा, पर्स लेकर फरार हो गया। पुलिस ने आरोपी के पास से एक्टिवा, पर्स, दस्तावेज बरामद किए हैं।

 

 

 

 

 

थाना प्रभारी विजय सिंह सिसौदिया ने बताया कि भीम नगर बस्ती, अरेरा हिल्स में रहने वाला संदीप पाटिल (30) इलेक्ट्रीशियन था। रचना नगर में उसके भाई सुजीत की दुकान है। दुकान में अयोध्या नगर इलाके का रहने वाला डेविड यादव का आना-जाना था। इसी बीच, संदीप से डेविड की दोस्ती हो गई। 7 जुलाई को संदीप पत्नी अंजू पाटिल से मिलाने के लिए दोस्त डेविड को ले गया था। इसके बाद दोनों ने शराब खरीदी। दोपहर करीब साढ़े 4 बजे प्रेमपुरा घाट पहुंच गए। दोनों यहां शराब भी पी।

 

 

 

संदीप को ज्यादा नशा हो गया। वह डेविड से गाली-गालौज करने लगा। इसी बीच, संदीप नशे की हालत में घाट के पास ही मदहोश होकर लेट गया। शरीर में हरकत नहीं हो रही थी। डेविड ने उसे धक्का देकर तालाब में गिरा दिया। उसकी एक्टिवा, पर्स लेकर भाग निकला। 8 जुलाई को पुलिस ने शव बरामद किया। 9 जुलाई को उसकी पहचान संदीप पाटिल के रूप में हुई। पीएम रिपोर्ट में पानी में डूबने से मौत होना सामने आया। पुलिस को मामला संदिग्ध लगने से डेविड की तलाश शुरू की, लेकिन वह नहीं मिला। शक बढ़ने पर पुलिस ने उसे 3 माह बाद डेविड को हिरासत में लेकर पूछताछ की, तो उसने जुर्म कबूल लिया।

 

 

 

 


संदीप की पत्नी अंजू ने पति की हत्या की आशंका जताई थी। उसने पुलिस को बताया था कि पति की एक्टिवा, पर्स नहीं मिला है। 7 जुलाई को डेविड पति को लेकर प्रेमपुरा घाट गया था। पुलिस को पत्नी के बयानों को जांच में शामिल किया। इस दौरान पुलिस डेविड की तलाश करती रही, लेकिन उसका सुराग नहीं लगा। शनिवार रात आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार किया।

 

 

 

 


आरोपी प्रतिबंधित दवाओं का उपयोग नशे के लिए करता है। वह इंजेक्शन से नशा लेता है। इसके साथ ही नशीले पाउडर का भी आदी है। पुलिस को आरोपी ने बताया कि उसके पिता की मौत हो चुकी है। मां दूसरे के साथ रह रही है। उसका रहने के लिए ठिकाना नहीं है। वह घूम-फिरता रहता है। खर्च के लिए कभी-कभी काम कर लेता है।

 

 

 

 


बताया गया कि संदीप को 7 जुलाई को वह तीन-चार घरों में बिजली सुधारने का काम किया था। इसमें उसे करीब 1500 रुपए मिले थे। इसके बाद दोनों ने शराब खरीदी। संदीप के पास करीब 9 सौ रुपए बचे थे, जिसे आरोपी उसकी हत्या करने के बाद लेकर भाग निकला। जिसे बाद में उसने नशे में खर्च कर दिया।

 

 

 

 

भोपाल से हत्या के बाद आरोपी ट्रेन के जरिए दिल्ली पहुंचा। वह हजरत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन के पास घूम-फिरकर फरारी काटता रहा। खर्च के लिए वह भीख मांग लेता था। पुलिस को दिल्ली के एक होटल वाले ने बताया कि डेविड के पास उसकी 1500 रुपए खाने की उधारी है। फरारी में उसका मामा मदद कर रहा था।