ग्वालियर: सिंधिया के विरोध में कांग्रेसियो का धरना प्रदर्शन

ग्वालियर: सिंधिया के विरोध में कांग्रेसियो का धरना प्रदर्शन

 

 

 

 

ग्वालियर: मध्य प्रदेश में ज्योतिरादित्य सिंधिया मार्च 2020 में जब कांग्रेस का साथ छोड़कर भाजपा में आ गए तो प्रदेश की राजनीती का तख्ता हो पलट गया. इसके बाद से ही मध्य प्रदेश की सियासत लगातार दिन ब दिन गरमाती जा रही हैं. इसी बीच ग्वालियर में केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के रोड शो के विरोध में कांग्रेस ने फूलबाग पार्क के सामने विरोध प्रदर्शन किया.

 

 

 

 

 

 

कांग्रेस नेता ने किया सिंधिया पर तंज

मिली जानकारी के अनुसार जनता से जुड़े मुद्दों को लेकर प्रदर्शन करने पर कांग्रेस नेताओं के खिलाफ पुलिस ने FIR दर्ज़ की हैं. लेकिन सिंधिया को खुलेआम रोड शो करने पर और भीड़ जुटाने की इजाजत मिलने से कांग्रेसियो का गुस्सा फूटा हैं. इस दौरान कांग्रेस नेता ने सिंधिया पर तंज कसते हुए कह रहे हैं कि जब शहर के लोग कोरोना से मर रहे थे, उन्हें उपचार नहीं मिल रहा था. ऑक्सीजन के लिए भटक रहे थे और रेमडेसिविर इंजेक्शन ब्लैक में मिल रहा था. तब खुद को जन-जन के नेता बताने वाले सिंधिया कहां गायब थे अब अपना स्वागत कराने शहर में निकल रहे हैं. जिसका कांग्रेस सख्त विरोध करती है और करती रहेगी. इस विरोध धरना प्रदर्शन में पूर्व मंत्री व विधायक लाखन सिंह, ग्वालियर पूर्व से विधायक सतीश सिंह सिकरवार, डबरा विधायक सुरेश राजे, जिलाध्यक्ष देवेन्द्र शर्मा, कांग्रेस नेता अशोक सिंह प्रदेश प्रवक्ता आरपी सिंह जैसे कई वरिष्ठ नेता मौज़ूद थे.

 

 

 

 

 

 

 

इस विरोध धरना प्रदर्शन के दौरान कांग्रेस शहर जिला अध्यक्ष देवेंद्र शर्मा ने भी भाजपा सर्कार को घेरा उन्होंने कहा कि- एक संविधान दो विधान चलाने वाली भाजपा सरकार के नेता सिंधिया कोविड से पीड़ित मृतकों के परिवार के दुख में सम्मिलित न होकर स्वागत कराने आए हैं. वहीं बाढ़ से बेघर हुए किसानों, ग्रामीणों को राहत देने के बजाए स्वागत करवाने के लिए आतुर हैं. रोजगार पाने के लिए दर-दर भटक रहे बेरोजगारों को रोजगार दिलाने के बजाए स्वागत सत्कार करा रहे हैं. महंगाई से दो वक्त की रोटी खाने के लिए हर वर्ग तरस रहा है. इस तरह की ज्यादती और झूठ को कांग्रेस सहन नहीं करेगी, वह इन पीड़ितों के साथ तब भी खड़ी थी और आज भी खड़ी है.

पूर्व मंत्री बालेंदु शुक्ल, ग्रामीण कांग्रेस अध्यक्ष अशोक सिंह, मप्र शासन के पूर्व मंत्री विधायक लाखन सिंह यादव, विधायक सतीश सिंह सिकरवार, विधायक सुरेश राजे, प्रदेश महासचिव सुनील शर्मा ने कहा कि विपक्षी दलों पर प्रकरण दर्ज करने के लिए कानून कुछ और है, भाजपा सत्ताधारी दल पर कानून कुछ और. ऐसे में धरना डॉ. अंबेडकर के संविधान को बचाना और उसकी रक्षा करना है.

 

 

 

 

 

 

कांग्रेसी फूलबाग चौराहा पर धरना प्रदर्शन कर रहे हैं. कुछ देर बाद ही केन्द्रीय मंत्री सिंधिया का काफिला निकलेगा. केन्द्रीय मंत्री की सुरक्षा के लेकर सतर्क पुलिस प्रशासन पूरी तरह से चौकन्ना है कि रोड शो के समय कोई हरकत न हो. सुरक्षा को मद्देनज़र रखते हुए काफी मात्रा में फोर्स तैनात कर रखी है.

बता दें कि इससे पहले भाजपा के केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस नेता थे. लेकिन मार्च 2020 में सत्ता परिवर्तन के दौरान ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आ मिले हैं.