IAS अफसर ने पेश की मिसाल, 101 रुपए का शगुन लेकर लिए सात फेरे

IAS अफसर ने पेश की मिसाल, 101 रुपए का शगुन लेकर लिए सात फेरे

 

 

नई दिल्ली। शादी को यादगार बनाने के लिए लोग क्या कुछ नहीं करते। अपना रुतबा दिखाने के लिए तो कई लोग लाखों-करोड़ों रुपए पानी की तरह बहा देते हैं। लेकिन हरियाणा के फरिदाबाद निवासी IAS अफसर ने समाज में एक सादगी की मिसाल पेश की है। ​अपने पिता को दिए वादे का निभाते हुए बिना दहेज के मात्र 101 रुपए का शगुन लेकर सात फेरे लिए।

 

 

 

 

 

 

फरीदाबाद के तिगांव विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले शाहबाद गांव निवासी रणजीत सिंह के बेटे प्रशांत नागर 2019 बैच के यूपी कैडर के IAS अधिकारी है। प्रशांत नागर का विवाह 20 जून को दिल्ली के बुराड़ी में रहने वाले रमेश कुमार की बेटी डॉ. मनीषा से हुआ। इस विवाह में न तो दिखावा हुआ और न ही बरातियों का मेला लगा। सादगी के साथ विवाद हुआ जो समाज को एक नई सीख दी है। बता दें कि आईएएस प्रशांत नागर उत्तर प्रदेश के अयोध्या में जॉइंट मजिस्ट्रेट के रूप में तैनात हैं।

 

 

आईएएस के शादी समारोह में पूरी तरह से सादगीपूर्ण में संपन्न हुआ और बारात में महज 11 लोग ही शामिल हुए। 101 रुपए का शगुन लेकर शादी किए प्रशांत नागर ने बताया कि मेरी बहन की शादी भी पिता जी ने बिना दहेज शगुन के मात्र 101 रु देकर की थी। तभी से पिता जी ने संकल्प लिया था के बेटों की शादी में दहेज नही लेंगे। पिता जी को दिए हुए संकल्प को निभाते हुए मैंने भी शुरू से ही बिना दहेज की शादी करने का फैसला कर लिया था। आईएएस के इस फैसले का दिल्ली सहित फरीदाबाद में खूब चर्चाएं हो रही हैं।