MP: रीवा के अमर शहीद दीपक सिंह को मिला वीर चक्र

MP: रीवा के अमर शहीद दीपक सिंह को मिला वीर चक्र

 

रीवा की माटी में जन्मे और देश की माटी को अपने लहू से सींच देने वाले अमर शहीद योद्धा दीपक सिंह को' वीर चक्र' से सम्मानित किया गया। उनकी वीरवधू (पत्नी) रेखा सिंह को देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के हाथों वीर चक्र सौंपा गया. शहीद दीपक सिंह की वीर गाथा को याद किया गया। याद हो कि पिछले साल 2020 जून में लद्दाख की खतरनाक गलवान घाटी में अचानक से भारतीय जवानों पर चीनी सैनिकों ने रात के अँधेरे का फायदा उठाते हुए कायरों की तरह हमला कर दिया था, चीनी सैनिकों से बॉर्डर में लड़ते दीपक सिंह ने 30 साल की उम्र में देश के लिए बलिदान दे दिया था।

 

दिल्ली में मौजूद राष्ट्रपति भवन में शहीद दीपक सिंह की वीरवधू 'रेखा सिंह' को आमंत्रित किया गया इस दौरन देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत भारत के कई बड़े नेता वहां मौजूद थे। राष्ट्रपति हाथ में वीर चक्र लिए खड़े थे और वीरवधू रेखा सिंह अपनी नम आँखों के साथ अपने अमर जवान पति शहीद दीपक सिंह को सम्मानित करने वाले वीर चक्र की और आगे बढ़ रही थीं। इस दौरन हॉल में बैठे सभी लोगों ने दीपक सिंह की गौरव गाथा को सुना, राष्ट्रपति भवन में मौजूद स्पीकर ने कहा..

 

"नायक दीपक सिंह बटालियन में नर्सिग सहायक की ड्यूटी का निर्वाहन कर रहे थे, ऑपरेशन स्नो लेपर्ड के दौरन उन्होंने गलवान घाटी में भिड़ंत के दौरन हताहतों को उपचार उपलब्ध कराया, जैसे ही दोनों पक्षों के बीच भिड़ंत शुरू हुई और हताहतों की संख्या बढ़ी, वो अपने घायल सैनिकों को प्राथमिक उपचार प्रदान करते हुए आगे बढ़ने लगे, भिड़ंत में आगे हो रहे पथराव के चलते उनको गंभीर चोटें आईं, लेकिन इसके बाद भी वो अडिग रहे और निरंतर चिकित्सा सहायता उपलब्ध कराते रहे दुश्मनों की संख्या भारतीय सैनिको की टुकड़ी से ज़्यदा हो गई थी, गंभीर ज़ख्मों के बाद भी उन्होंने घायल सैनिकों को चिकित्सा प्रदान करना ज़ारी रखा, और कई सैनिकों की जान बचाई, अंत में वो अपनी चोटों के कारण शहीद हो गए। उपचार उपलब्ध कराने 30 से अधिक भारतीय सैनिक की जान बचाने में उन्होंने महत्वपूर्ण योगदान दिया, जो उनके पेशेवर कुशाग्र बुद्धि तथा निष्ठा को प्रदर्शित करता है। नायक दीपक सिंह ने प्रतिकूल हालात में अतुल्यनीय दक्षता, अदम्य समर्पण का प्रदर्शन किया और देश के लिए सर्वोच्च बलिदान दिया'