MP: किसान ने बताई खाद की समस्या तो मंत्री गुस्से में बोले- चल हट तू क्या राष्ट्रपति है जो मिल जाएगी?

MP: किसान ने बताई खाद की समस्या तो मंत्री गुस्से में बोले- चल हट तू क्या राष्ट्रपति है जो मिल जाएगी?

 

 

 

 

भिंड: मध्य प्रदेश का चंबल अंचल के भिंड और मुरैना जिले पीला सोना (सरसों) पैदा करने में देश भर में अव्वल माने हैं, रबी फसल बोनी का पीक समय होने के चलते भिंड ज़िले के किसान सरसों की बोनी के लिए खेत तैयार करके बीते 15 दिनों बैठा है, लेकिन कई दिनों से उसे खाद नहीं मिल रही है. हां खाद के लिए लाइन में लगने पर उसे लाठियां जरूर मिल रही हैं. 

 

 

 

 

 

 

डीएपी ने मिलने से आक्रोशित किसानों द्वारा चक्का जाम और खाट लूटने जैसी घटनाये भी सामने आ रही हैं, तो बहीं किसानों पर मामले भी दर्ज हुए हैं. सरकार है कि खाद की आपूर्ति सुनिश्चित नहीं कर पा रही है, जिस वजह से उनकी बोनी लगातार पिछड़ जा रही है. खाद समस्या को लेकर किसान द्वारा आवास एवं विकास राज्यमंत्री ओपीएस भदौरिया से खाद की मांग की गई तो मंत्री जी की भृकुटी तन गई और किसान को बुरी तरीके से हड़काने लगे. ओपीएस भदौरियां सिंधिया के खासमखास माने जाते हैं.

 

 

 

 

 


खुद को किसान और किसानों की सरकार बताने वाली शिवराज सरकार में खाद की क़िल्लत और किसानों का विरोध और आक्रोश इन दिनों जारी है. जहां सरकार खाद की कमी ना होने का हवाला दे रही है, वहीं भिंड ज़िले में कमी के चलते खाद की लूट हो रही है. इस बीच शिवराज मंत्रिमंडल के राज्यमंत्री ओपीएस भदौरिया का एक वीडियो सामने आया है जिसमें खाद की मांग करने बाले एक किसान पर भड़कते दिख रहे हैं और उस पर झल्लाते हुए कह रहे हैं की तमीज़ नहीं है, तुम राष्ट्रपति हो क्या?

 

 

 

 

 


जानकारी के मुताबिक़ मंत्री जी अपने मेहगांव विधानसभा क्षेत्र के अमायन इलाके के ग्राम सड़ा के पास आजी माता मंदिर पर चल रही भागवत कथा में शामिल होने मंगलवार शाम पहुंचे थे. यहीं पर एक किसान ने उनसे डीएपी दिलाने का आग्रह कर लिया. फिर क्या था. मंत्री जी तो गुस्सा गए.

 

 

 

 

 

 

खाद मांगने पर उखड़े मंत्री जी


कार्यक्रम में शामिल होने के बाद जब वे रवाना हो रहे थे, उस दौरान उनके पास कई किसान पहुंचे और खाद की समस्या को लेकर गुहार लगायी. मंत्री उनकी बात पर कलेक्टर से फ़ोन पर चर्चा कर रहे थे. इसी दौरान भीड़ में मौजूद किसी शख़्स ने उनसे खाद ना मिलने को लेकर शिकायत की.

 

 

 

 

 

 

तू क्या राष्ट्रपति है जो मिल जाएगी?


माना जा रहा है की मेहगांव में खाद वितरण में जातिवाद हावी है. मंत्री के ख़ास लोगों को बिना परेशानी खाद मुहैया कराया जा रही है. यही सवाल एक आम आदमी द्वारा पूछे जाने से मंत्री जी झल्ला उठे और कहते नज़र आए कि “ *हट* "… दिखायी नहीं दे रहा है, कलेक्टर से बात कर रहा हूं. तमीज़ नहीं है. तुम क्या राष्ट्रपति हो.. *हट* …इसके बाद मंत्री जी मौक़े से चलते बने. खबर तो ये भी है कि मंत्री जी अपशब्दों का भी इस्तेमाल किया है.

 

 

 

 

 


इस घटना का वीडियो सामने आने के बाद कांग्रेस ने निशाना साधा है. ज़िला कांग्रेस प्रवक्ता डॉ. अनिल भारद्वाज का कहना है कि खुद को किसानों की सरकार बताने वाली शिवराज सरकार में किसान खाद के लिए परेशान हैं. इस शासन में किसानों को हक़ की जगह लाठी-डंडे और एफ़आईआर मिल रही है. किसान से बदतमीज़ी से बात करने वाले मंत्री आम आदमी को "तमीज़" सिखा रहे हैं और भाजपा से क्या उम्मीद की जा सकती है.