मेरे काम ने नहीं बल्कि कपड़ों ने दिलाई है पहचान : उर्फी जावेद

मेरे काम ने नहीं बल्कि कपड़ों ने दिलाई है पहचान :  उर्फी जावेद

पिछले कुछ दिनों में उर्फी जावेद सोशल मीडिया सेंसेशन बन चुकी है. कभी वे अपने विवादित बयानों की वजह से चर्चा में रहती हैं, तो कभी उनके ड्रेसिंग सेंस लोगों का ध्यान अपनी ओर खींच लेते हैं.

 

 

 

 

उर्फी हाल ही में बिग बॉस ओटीटी हाउस से बाहर आई हैं. बाहर निकलते ही सोशल मीडिया सेंसेशन बनने को लेकर उर्फी कहती हैं, मैं बहुत अमेजिंग हूं. बिग बॉस ने भले ही मेरी इस क्वालिटी को नहीं देखी हो लेकिन दुनियावाले जान गए हैं कि मैं बहुत ही एंटरटेनिंग हूं. अब तो यह बिग बॉस का लॉस है. हालांकि दुनियावाले समझ गए हैं और मेरे लिए ये बहुत अच्छा है. 

 

 

 

 

पोस्ट व कपड़ों की वजह से हुई लाइमलाइट


मैंने करियर की शुरुआत सात साल पहले ही कर दी थी. मैंने काफी सारे डेलीसोप भी किए हैं लेकिन मुझे वहां कोई नहीं पहचानता है. अपने इंस्टाग्राम और कपड़ों की वजह से मैं लाइमलाइट में आई हूं. 

 

 

 

 

उर्फी कहती हैं, इंस्टाग्राम पर अपने कपड़ों व फैशन सेंस को लेकर हमेशा से चर्चा में रहती थी. बिग बॉस में एंट्री के बाद थोड़ा हाइलाइट हो गया है. टीवी शोज से मुझे काफी नाराजगी है. कई बार मुझे से बिना बताए निकाल दिया गया. वहीं कुछ शोज थोड़े दिन चलने के बाद बंद हो गए. डेलीसोप से मुझे पहचान व नाम नहीं मिला है. जबकि मैंने यहां अपनी जिंदगी के सात साल गुजारे हैं. 

 

 

 

 

 

मुझे कहने में यह हिचक नहीं है कि आज जो भी शौहरत मिली है. अपने कपड़ों की वजह से ही मिली है. अब लोग आपके टैलेंट से ज्यादा आपके ड्रेंसिंग सेंस पर बातें करते हैं. इस इंडस्ट्री का फंडा मैंने सीख लिया है. जो दिखता है, वो ही बिकता है. मैं इसे पॉजिटिव ही लेती हूं. चलो अभी लोग भले ही मेरे काम के बारे में बात नहीं कर रहे हैं, लेकिन आगे चलकर काम की तारीफ होनी तय है. आप ही देखें न, सात से इंडस्ट्री में हूं, कभी मेरे काम की कोई चर्चा हुई है नहीं न. अब अगर मेरी चर्चा हो रही है, भले ही इसका कारण मेरे ही क्यों न हो, मैं इस लाइमलाइट से खुश हूं