पंजाब: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने पार्टी को दी नसीहत, सिब्बल और कैप्टन को बताया वरिष्ठ नेता

पंजाब: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने पार्टी को दी नसीहत, सिब्बल और कैप्टन को बताया वरिष्ठ नेता

 

 

 

 

पंजाब कांग्रेस में जारी राजनीतिक उथल पुथल देखते हुए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा  ने पार्टी को मंथन करने की नसीहत दी है. उन्होंने पार्टी की स्थिति पर चिंता जताते हुए कहा है कि कांग्रेस पार्टी का विघटन  देश हित में नहीं है.

उन्होंने कहा, ”कांग्रेस बहुत बड़ी पार्टी है और कैप्टन अमरिंदर सिंह वरिष्ठ नेता है. कार्यकर्ता भी पार्टी छोड़ते हैं तो पार्टी को बहुत नुकसान होता है.” उन्होंने कहा, ”कांग्रेस पार्टी का विघटन देश हित में नहीं है. इस के चलते पार्टी को मंथन करना चाहिए और पार्टी में सब को एक होकर पार्टी को मज़बूत करना चाहिए.”

 

 

 

 

 

 

 

 

वहीं कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल को लेकर उन्होंने कहा कि कपिल सिब्बल ने जो कहा वो उनकी अपनी सोच है, अपना विचार है, लेकिन उनके घर के बाहर जो प्रदर्शन हुआ वो कांग्रेस की संस्कृति नहीं है. विचारों का अंतर हो सकता है, उसको पार्टी में ही बैठ के सुलझाना चाहिए.

उन्होंने कहा, ”मैं एक बार फिर कह रहा हूं, कांग्रेस का विघटन देश के हित में नहीं है. हर एक कांग्रेस जन को गहरी चिंता है , कांग्रेस पार्टी को मंथन करना चाहिए और इसका समाधान निकालना चाहिए.

 

 

 

 

 

 

 

 

 

इससे पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने भी पार्टी की स्थिति पर अपनी निराशा जताई थी. उन्होंने कहा था कि पार्टी फोरम में “सार्थक बातचीत” शुरू करने में विफल रहने पर वह “असहाय” महसूस कर रहे हैं.

इसी के साथ उन्होंने कपिल सिब्बल के घर के बाहर हुए विरोध प्रदर्शन के खिलाफ भी आवाज उठाई थी. दरअसल सिब्बल ने बुधवार को पार्टी नेतृत्व पर सवाल उठाया था और पार्टी अध्यक्ष के चुनाव की मांग भी उठाई थी. इसके बाद कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने उनके घर के बाहर विरोध प्रदर्शन किया था.

पी चिदंबरम ने ट्वीट करते हुए कहा, ”जब हम पार्टी मंचों के भीतर सार्थक बातचीत शुरू नहीं कर पाते हैं तो मैं असहाय महसूस करता हूं.जब मैं अपने एक सहयोगी और सांसद के आवास के बाहर कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा नारे लगाते हुए तस्वीरें देखता हूं तो मैं भी आहत और असहाय महसूस करता हूं.”

 

 

 

 

 

 

 

कपिल सिब्बल ने क्या कहा था?

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने कहा था, ‘कांग्रेस में अब कोई निर्वाचित अध्यक्ष नहीं है. हम नहीं जानते कि पार्टी के निर्णय कौन ले रहा है.’ दरअसल, कांग्रेस नेता ने पंजाब के राजनीतिक संकट को लेकर यह बयान दिया था. सिब्‍बल ने कहा, ‘हम जी-23 हैं, निश्चित रूप से जी हुज़ूर-23 नहीं हैं. पार्टी के सामने हम मुद्दों को उठाते रहेंगे.’ इसके साथ ही उन्‍होंने कहा क‍ि यह कभी भी जी-23 नहीं था, यह हमेशा जी-23 प्‍लस रहा है. कपिल सिब्‍बल ने आगे कहा था, ‘हम शीर्ष नेतृत्‍व से बात करते रहेंगे. अपनी मांगों को दोहराना जारी रखेंगे. बता दें क‍ि कपिल सिब्‍बल कांग्रेस के उन 23 नेताओं में से एक हैं जिन्‍होंने पिछले साल सोनिया गांधी को पत्र लिखकर शीर्ष नेतृत्‍व में व्‍यापक बदलाव की मांग की थी.

 

वहीं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखकर आग्रह किया था कि पार्टी से जुड़े मामलों पर चर्चा के लिए कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की तत्काल बैठक बुलाई जाए. सूत्रों के अनुसार, राज्यसभा में पूर्व नेता प्रतिपक्ष आजाद ने पत्र में कहा था कि पार्टी से कई नेताओं के अलग होने के मद्देनजर आंतरिक रूप से चर्चा की जाए.