ट्रैक्टर मार्च करना राहुल गांधी को पड़ सकता है भारी, दिल्ली पुलिस ने शुरू की जांच

ट्रैक्टर मार्च करना राहुल गांधी को पड़ सकता है भारी, दिल्ली पुलिस ने शुरू की जांच

 

 

 

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने सोमवार को प्रदर्शन कर रहे किसानों के समर्थन में संसद तक ट्रैक्टर मार्च निकाला। दिल्ली पुलिस अब यह पता लगाने के लिए जांच शुरू कर दी है कि राहुल गांधी को वीआईपी इलाके में ट्रैक्टर कैसे मिला। सूत्रों के अनुसार, ट्रैक्टर को एक वीआईपी आवास पर रखा गया था। इसे सीमाओं पर सुरक्षा जांच से बचने के लिए एक कंटेनर में लाया गया था। सूत्र ने यह भी कहा है कि कंटेनर प्राप्त करने के लिए एक सांसद के पत्र का इस्तेमाल किया गया है।

 

 

 

 

 

 

 

इससे पहले दिल्ली पुलिस ने सोमवार को रणदीप सिंह सुरजेवाला और दीपेंद्र सिंह हुड्डा सहित छह कांग्रेस कार्यकर्ताओं को संसद तक ट्रैक्टर मार्च का नेतृत्व करने के आरोप में हिरासत में लिया। पुलिस ने कहा कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी के नेतृत्व वाली ट्रैक्टर रैली से सुरक्षा का गंभीर उल्लंघन हुआ है। पुलिस सूत्रों ने कहा कि रैली सीआरपीसी की धारा 144 का उल्लंघन है क्योंकि संसद का सत्र चल रहा है।

 

 

 

 

 

 

जिस ट्रैक्टर पर राहुल गांधी और अन्य कांग्रेस नेताओं ने मार्च का नेतृत्व किया, उसे भी पुलिस ने जब्त कर लिया है। पुलिस ने कहा कि विभाग और अन्य एजेंसियों को ट्रैक्टर रैली की जानकारी नहीं थी और स्थानीय पुलिस स्टेशन से भी कोई अनुमति नहीं ली गई थी। दिल्ली पुलिस ने ट्रैक्टर को जब्त कर लिया है।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

मॉनसून सत्र में हिस्सा लेने पहुंचे राहुल गांधी ने कहा था कि मैं किसानों का संदेश लेकर संसद आया हूं। उन्होंने कहा कि सरकार किसानों की आवाज को दबा रही है और उनके मुद्दों पर संसद में चर्चा नहीं होने दे रही। तीन नए कृषि कानूनों को लेकर राहुल गांधी ने कहा कि ये काले कानून हैं और सरकार को इन्हें वापस लेना ही होगा। पूरा देश यह जानता है कि ये कानून देश के 2 से 3 कारोबारियों को ही फायदा पहुंचाने वाले हैं।