सिंगरौली-कुर्सी जाते ही अध्यक्ष को दिखा नगर निगम का भ्रष्ट्राचार,लोगो ने कहा बिलबिला रहे महोदय

सिंगरौली-कुर्सी जाते ही अध्यक्ष को दिखा नगर निगम का भ्रष्ट्राचार,लोगो ने कहा बिलबिला रहे महोदय

 

अनोखी आवाज़अपनी कार्यप्रणाली और बातों से आए दिन सुर्खियों में बने रहने वाला नगर पालिक निगम सिंगरौली के निवर्तमान अध्यक्ष इन दिनों पुनः सुर्खियों में है। आखिर सुर्खियों में रहे में क्यों ना क्योंकि उन्होंने नगर निगम में चल रहे भररेशाही के मामले को उठाया है।

इतना ही नहीं निवर्तमान अध्यक्ष चंद्र प्रताप विश्वकर्मा ने तो कलेक्टर को पत्र लिख गुणवत्ताविहीन हो रहे कार्यो और भ्रष्टाचार को लेकर अवगत कराया है।

बड़ा सवाल यह है कि क्या अध्यक्ष पद की कुर्सी जाने के बाद इन्हें गुणवत्ता विहीन , घटिया निर्माण वह भ्रष्टाचार नजर आ रहा है ..? इतने दिन जब पद पर थे तब क्यों नहीं इन्हें यह सब नजर आए। और नजर आया भी तो क्यों अब तक मुह में दही जमाकर बैठे थे।

 

 

 

 

सोशल मीडिया पर पत्र वायरल होते ही विपक्ष ने भी सवाल खड़े किए। आरोप लगाए कि जब तक अध्यक्ष महोदय कमीशन मिलता रहा तब तक मुंह में दही जमा कर बैठे रहे और जैसे ही कमीशन मिलना बंद हो गया बेचैन हो गए। 

 

 

 

 

 

ज्ञात हो कि नगर निगम में कमीशन का खेल लंबे अर्से से चला आ रहा है कोई 1 % तो कोई 2% कमीशन का खेल कुछ इस तरह रहा कि 5% तक लिया जााता है। कोई बोलने वाला नहीं है लेकिन अचानक कुर्सी जाने के काफी दिनों बाद अध्यक्ष ने घटिया निर्माण व जांच की बात उठाकर पुनः मामले को गर्म कर दिया। सोशल मीडिया यूजर  उक्त पत्र को लेकर तरह तरह के कमेंट किए हैं । किसी ने लिखा कि अध्यक्ष महोदय का कमीशन बंद हो गया है इसलिए बिलबिला गए हैं... कोई लिख रहा है कि आज तक अपने वार्ड में विकास भी नहीं किए...कोई यह तक भी लिख दे रहा है कि अध्यक्ष कौन है मैं तो जानता तक नहीं...।

 

अब अचानक निवर्तमान अध्यक्ष का नींद से उठाना और नगर निगम में हो रहे निर्माण कार्यों पर सवाल उठाने के पीछे उनकी क्या मंशा

है यह तो वही स्पष्ट कर सकते  हैं। लेकिन फिलहाल तो सोशल मीडिया पर लोग तरह तरह के कमेंट कर उन्हें ट्रोल कर रहे हैं।