सिंगरौली: नगर निगम के हस्तक्षेप के बाद भी नहीं रुका अवैध निर्माण

सिंगरौली: नगर निगम के हस्तक्षेप के बाद भी नहीं रुका अवैध निर्माण

 

बिना ननि के स्वीकृति के हो रहा निर्माण, अवैध निर्माण हटाने के लिए निर्माण कर्ताओं को मिली नोटिस

 

अनोखी आवाज़ सिंगरौली। नगर पालिक निगम वार्ड क्रमांक 40 के अंबेडकर चौक (Ambedkar chauk) स्थित विवादित जमीन खसरा क्रमांक 471/1/2/1/2 रकवा 0.010 हेक्टेयर भूमि पर इन दिनों निर्माण कार्य  बड़ी ही तेजी से हो रहा है। ज्ञात हो कि पूर्व में बैढ़न पटवारी उमेश नामदेव (Umesh Namdev) के कारण यह जमीन सुर्खियों में आई थी लेकिन स्थगन आदेश हटने के बाद निर्माण कार्य कराया जा रहा है। जहा एक बार पुनः इस विवादित जमीन में पेंच फंसता दिख रहा है।
ऐसा इसलिए क्योंकि उक्त भूमि पर निर्माण कार्य कराने को लेकर ननि से अनुमति नहीं ली गई है लिहाजा ननि अमले ने भूस्वामी को नोटिस थमाया है और अवैध निर्माण हटाने की बात कही है।

 

लेकिन चौंकाने वाली बात यह है कि यह अवैध निर्माण तो हटा नहीं उल्टा निर्माण कार्य पर रोक नहीं लग सका लिहाजा निर्माणकर्ता ननि की नोटिस को ठेंगा दिखा दिया।

 

ननि की नोटिस को दिखाया ठेंगा

नगर पालिक निगम सिंगरौली अमले ने दोनों भूमि स्वामियों को बीते दिवस एक नोटिस जारी किया है। जिसमें स्पष्ट उल्लेखित है कि इस अवैध निर्माण को हटाया जाए और चेताया भी गया है कि यदि ऐसा नहीं करते तो कार्यवाही होगी। यह पत्र भवन अधिकारी द्वारा जारी किया गया है लेकिन कितने आश्चर्य की बात है कि ननि के सख्त चेतावनी के बाद भी निर्माणकर्ताओं के कान में जूं नहीं रेंग रहा और निर्माण कार्य अनवरत जारी है। जिससे साफ प्रतीत होता है कि ननि अमले को निर्माणकर्ता ठेंगा दिखा रहा है।

 

ननि अमले को बड़ी चुनौती

अवैध निर्माण हटाने व निर्माण कार्य पर रोक लगाने के वास्ते भले ही नगर पालिक निगम भवन अधिकारी ने पत्र जारी कर निर्माणकर्ताओं को चेताया है लेकिन सूत्र बताते हैं कि इसका कोई खास प्रभाव नहीं पड़ा, प्रभाव पड़ता तो शायद निर्माण कार्य पर रोक लगती। यहां तो ठीक इसके विपरीत है आसपास के लोगों की माने तो नोटिस मिलने के बाद से निर्माण कार्य में और गति आ गई है अब देखना यह होगा कि ननि अमला नोटिस  की अवहेलना करने पर  क्या कदम उठाता है क्योंकि यह ननि अमले के लिए खुली चुनौती जैसा है।