सिंगरौली: साहब पुष्कर और धाकड़ के मारने से मेरे बेटे की मौत हो गई

सिंगरौली: साहब पुष्कर और धाकड़ के मारने से मेरे बेटे की मौत हो गई

परिजनों ने लगाए गंभीर आरोप,एसपी से लगाई न्याय की गुहार

 

मामला कोतवाली थाना के गड़हरा का, किडनी में चोट लगने के कारण हो गई बेटे की मौत


 

 

 

अनोखी आवाज़ सिंगरौली। साहब पुष्कर और धाकड़ के मारने से मेरे बेटे की मौत हो गई मैं न्याय के लिए दर-दर भटक रहा हु..मुझे न्याय चाहिए उक्त फरियाद पीड़ित परिजनों ने एसपी के समक्ष शिकायती पत्र लिखकर लगाई है। मामला कोतवाली थाना के खुटार चौकी का है।  पीड़ित के शिकायती पत्र की मानें तो पुलिस की मार से उसके 26 वर्षीय बेटे की दर्दनाक मौत हो गई।  हालांकि पीड़ित परिजन के आरोप कितने सत्य हैं यह तो जांच के बाद ही पता चलेगा लेकिन प्रथम दृष्टया जिस तरह के आरोप है उसे देखकर सब के कान खड़े कर हो गए है।

 

 

 

 

 

 

 

 

 पूरे मामले पर एक नजर परिजनों के जुबानी

 

मामला खुटार चौकी अंतर्गत गड़हरा गांव का है।  जहां गणेश प्रसाद दुबे ने पुलिस अधीक्षक को पत्र लिखकर बताया कि मेरे पुत्र इंद्र कुमार दुबे उम्र 26 वर्ष को बीते अक्टूबर 2019 को दहेज एक्ट का आरोप लगाकर मेरे बेटे को खुटार चौकी के पुलिसकर्मी दिलीप धाकड़ एवं पुष्कर पोरवाल के द्वारा चौकी ले गए और बुरी तरह से मारपीट किए और मारपीट करने के बाद प्रार्थी से 5 हजार लेकर छोड़ दिए घर आते ही मेरे पुत्र का अचानक तबीयत खराब हो गया । जिसका दवा- इलाज कराने के लिए पीजीआई हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया चेकअप कराने के बाद पता चला कि किडनी में चोट लगने के कारण पेट में काफी दर्द हो रहा था। आगे उन्होंने बताया कि  दर्द का इलाज लगभग 6 माह तक चलता रहा फिर डॉक्टर के द्वारा बताया गया की चोट लगने के कारण इनकी किडनी खराब हो गई है।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 


फिर मैंने जबलपुर मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया वहां भी काफी दवा इलाज हुआ लेकिन कोई सुधार नहीं हुआ फिर । पुनः मैंने अपने पुत्र को लेकर लखनऊ पीजीआई में भर्ती कराया वहां भी काफी समय तक दवा इलाज हुआ फिर भी कोई सुधार नहीं हुआ फिर अपने पुत्र को लेकर मै  मिश्रा पॉलीक्लिनिक में भर्ती कराया और दवा इलाज के उपरांत ही उसकी मृत्यु हो गई। जहां भी मैं डॉक्टर को दिखाया उनके द्वारा यही बताया गया कि किडनी पर गंभीर चोट लगने के कारण ही इनका पेट दर्द कर रहा है। और उसी के वजह से इनकी किडनी खराब हो गई है। 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

सुर्खियों में दिलीप और पुष्कर

 

लंबे समय से खुटार चौकी में पदस्थ दोनों पुलिसकर्मियों के बारे में बताया जाता है कि इनकी जोड़ी जय-वीरू वाली है। एक साथ मिलकर मलाई काटते हैं।  अपनी कार्यप्रणाली को लेकर आए दिन सुर्खियों में बने रहते रहने वाले पुलिस पुष्कर और धाकड़ पर क्यों कार्यवाही नहीं होती?

 

जानकारों की मानें तो इनको राजनीति संरक्षण भी प्राप्त है जिस कारण इनके कारनामों पर पर्दा पड़ जाता है लेकिन इस बार का मामला बेहद संगीन है अब देखना यह होगा कि परिजनों के आरोप के आधार पर पुलिस क्या एक्शन लेती है। हालांकि अभी वर्तमान में धाकड  की पोस्टिंग कोतवाली बैढन मे है।