सिंगरौली- पीके मिश्रा को गिरफ्तार कर प्रशासन करें कार्यवाही- अनिल

सिंगरौली- पीके मिश्रा को गिरफ्तार कर प्रशासन करें कार्यवाही- अनिल

जिला सिंगरौली में हो रहे सहकारिता विभाग में बड़े घोटाले का पर्दाफाश

 

अनोखी आवाज़ वैढ़न,सिंगरौली। आम आदमी पार्टी सिंगरौली जिले के संरक्षक अनिल कुमार द्विवेदी ने आज जिला कार्यालय में पत्रकार वार्ता कर सिंगरौली जिले में सहकारिता विभाग में पदस्थ उप आयुक्त पी के मिश्रा पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाये।

 

 


पत्रकारों को सम्बोधित करते हुये उन्होने कहा कि सिंगरौली जिले को अधिकारी अपना चारागाह समझते हैं। नियमानुसार तीन वर्ष के बाद अधिकारियों-कर्मचारियों का यहां से स्थानांतरण होना चाहिए परन्तु जिले के अधिकांश विभागों में दसों वर्षों से ज्यादा समय से यहां अधिकारी कार्य कर रहे हैं उनका स्थानांतरण नहीं हो रहा है। उन्होने कहा कि सहकारिता विभाग में पदस्थ उपायुक्त पी.के.मिश्रा तथा राधेश्याम गुप्ता खुद को उपायुक्त बताते हैं परन्तु वह सहकारी निरीक्षक के पद पर तैनात हैं। श्री द्विवेदी ने कहा कि पी के मिश्रा तथा राधेश्याम गुप्ता स्वघोषित उपायुक्त हैं तथा जिले की समितियों का देखरेख इन्हीं के द्वारा किया जाता है। जिला कलेक्टर सहित अन्य अधिकारियों को श्री मिश्रा खुद को सहकारिता उपायुक्त बताते हैं।

 

 

 

 

 

 


उन्होने कहा कि इनके द्वारा धान/गेहूं उपार्जन केन्दों में जिनके धान/गेहूं का शार्टेज दिखाकर उन समितियों से धान/गेहूं उपार्जन का कार्य बंद कर अन्य उपार्जन केन्द्रों से एक लाख से दो लाख तक लेकर संबंध करते कराते हैं। उन्होने कहा की श्री मिश्रा सिंगरौली जिले में दस वर्षों से ज्यादा समय से जिले में तैनात हैं। कई बार स्थानांतरण भी हुआ पर अपनी राजनीतिक पहुंच तथा पैसे के दम पर उनका स्थानांतरण कैंसिल हो जाता है। उन्होने कहा कि इनके द्वारा विभाग में किये गये भ्रष्टाचार की जांच हेतु लोकायुक्त कार्यालय रीवा द्वारा जांच हेतु एक समिति का गठन किया गया है। सहकारिता विभाग द्वारा ३१ अगस्त को जारी आदेश के अनुसार पीके मिश्रा तथा राधेश्याम गुप्ता का स्थानांतरण सिंगरौली जिले से हो गया है परन्तु अब तक उन्हें रिलीव नहीं किया गया है जबकि विभाग के अन्य बाबुओं का भी स्थानांतरण हुआ है जिन्हें रिलीव कर दिया गया है।

 

 

 

 

 

 


श्री द्विवेदी ने आरोप लगाते हुये आगे कहा कि पीके मिश्रा का विन्ध्यनगर में करोड़ो का आलीशान भवन बना हुआ है जिसकी जांच किया जाना जरूरी है। आय से अधिक संपत्ति की भी जांच होनी चाहिए। इस दौरान उन्होने कई तरह के साक्ष्य भी मीडिया के सामने प्रस्तुत किये। श्री द्विवेदी ने कहा कि सिंगरौली में हो रहे इतने बड़े घोटाले का आम आदमी पार्टी पुरजोर विरोध करती है साथ ही जिला प्रशासन से यह मांग करती है कि उनके खिलाफ जो  लोकायुक्त जांच कमेटी बैठी है  उसे यह सिंगरौली में रहकर प्रभावित कर सकते हैं । इसलिए ऐसे भ्रष्ट अधिकारियों को  तत्काल प्रभाव से निलंबित कर जेल भेज दिया जाना चाहिए। 

 

 

 

 

 

 

 

 

और आधिकारिक जांच ना करके न्यायिक जांच होनी चाहिए क्योंकि इनका स्थानांतरण 31/08/ 2021 को हो चुका है  और आज 10 सितंबर हो गया अभी तक यह यहां से रिलीज नहीं हुए हैं /इसका सबसे बड़ा कारण है रीवा सहकारिता विभाग के ज्वाइंट रजिस्ट्रार और सीधी एवं  सिंगरौली जिले के सहकारिता विभाग के उपायुक्त जिनको  प्रतिमाह एक फिक्स अमाउंट जाता है  जो कि भोपाल तक बटा हुआ है। यदि 15 दिवस के अंदर विभागीय जांच कमेटी को  निरस्त करके न्यायिक जांच की कमेटी बैठाई जाए अन्यथा आगे की कार्यवाही करने पर आम आदमी पार्टी  बाध्य होगी।
‌ साथ ही यूथ जिला अध्यक्ष अक्षय शाह  ने कहा कि उत्क मांगो पर ठोस कार्यवाही नहीं की गई तो धरना प्रदर्शन व विरोध प्रदर्शन करने पर आम आदमी पार्टी बाध्य होगी। पत्रकार वार्ता के दौरान आम आदमी पार्टी जिला संरक्षक अनिल द्विवेदी, अक्षय शाह युवा जिलाध्य, पंकज शाह वार्ड प्रभारी वार्ड क्रमांक -२५ सहित पत्रकार बंधु उपस्थित रहे।

 

जल्द पढ़ेंगे- घोटाले के पहाड़ पर किस तरह पैर जमाये बैठे है मिश्रा