कलेजे के टुकड़े को ट्रक के ढाले में छोड़ गए पत्थर दिल

कलेजे के टुकड़े को ट्रक के ढाले में छोड़ गए पत्थर दिल

 

 

अयोध्या से कोयला लेने के लिए चंदासी कोलमंडी में आए एक ट्रक के ढाले में डेढ़ माह की मासूम मिली है। इस बच्ची को अयोध्या और पड़ाव के बीच कब और कहां ट्रक के ढाले में रखा गया, यह तो किसी को पता नहीं है। मगर पत्थर दिल जिस मां-बाप को कलेजे के टुकड़े को सीने से लगाकर परवरिश की जरूरत थी उसे लावारिश हाल में छोड़ गए। इसका पता तब चला जब शुक्रवार की सुबह मुगलसराय कोतवाली क्षेत्र के चंदासी कोल मंडी में कोयला लोड करने के लिए ट्रक के खलासी ने ढाला खोला तो उसमें बच्चे के रोने की आवाज सुनकर घबरा गया। बाद में देखा तो करीब डेढ़ माह की बच्ची उसमें पड़ी है और वह रो रही है। मौके पर पहुंची पुलिस ने उसे अस्पताल में भर्ती कराकर मामले की छानबीन कर रही है।

 

 

अयोध्या से चालक ट्रक लेकर गुरुवार की रात पड़ाव पहुंचकर रुक गया। शुक्रवार की सुबह चंदासी कोयला मंडी में कोयला लेने पहुंचा। इस दौरान एक ट्रांसपोर्ट के सामने ट्रक खड़ा कर दिया। लेकिन जैसे ही कोयला लोड करने के लिए खलासी ने ढाला खोला तो उसमें से बच्ची के रोने की आवाज आने लगी। इसकी जानकारी खलासी ने चालक व ट्रांसपोर्टर को दी। इसकी जानकारी होते ही कोयला व्यापारियों व मजदूरों की भीड़ जुट गई।

 

 

ट्रांसपोर्ट प्रबंधक अशोक पांडेय की सूचना पर पहुंची कोतवाली पुलिस ने महिला हेल्प डेस्क पर तैनात महिला पुलिसकर्मी नीलम राजपूत व अन्य  हमराहियों को बच्ची के साथ पीडीडीयू नगर स्थित राजकीय महिला चिकित्सालय जांच व इलाज़ के लिए भेजा। जहां डॉक्टरों ने बच्ची को भर्तीकर उपचार शुरू कर दिया। अस्पताल के चिकित्सकों के अनुसार बच्ची की हालत में सुधार है। आशंका जताई जा रही है कि पड़ाव या अयोध्या में किसी ने बच्ची को ट्रक में रख दिया होगा। हालांकि पुलिस मामले की छानबीन करने में जुटी है।