आज देशभर में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की धूम, जानें शुभ मुहूर्त

आज देशभर में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की धूम, जानें शुभ मुहूर्त

धर्म। आज देशभर में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी मनाया जा रहा है। रात 12 बजे भगवान श्रीकृष्ण का जन्म होगा, लेकिन सुबह से ही मंदिरों में इसका उत्साह दिख रहा है। प्रदेश के लगभग सभी मंदिरों में भगवान श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव की तैयारियां धूमधाम से की जा रही हैं। विभिन्न मंदिरों में विशेष तौर पर झांकी तैयार की गई है। इस बीच सरकार ने इस पर्व को लेकर बड़ा फैसला किया है।

 

पहली बार जन्माष्टमी पर शराब और मांसाहार की दुकानें पूरी तरह बंद रहेंगी। श्रद्धालुओं की भावनाओं को ध्यान में रखते हुए ये फैसला किया गया है। साथ ही जन्माष्टमी को लेकर कोरोना गाइडलाइन भी जारी की गई है। जिसके मुताबिक अब मंदिर के भीतर बड़ी सभा या मंडलियों के कार्यक्रम नहीं होंगे।

 

मंदिरों में प्रवेश पर सैनिटाइजेशन और थर्मल स्कैनिंग की जाएगी। दही हांडी या मटकी फोड़ के आयोजन की अनुमति नहीं दी गई है। फेस कवर मास्क का इस्तेमाल करने के साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने को कहा गया है। मूर्ति, धार्मिक ग्रंथों को छूने की अनुमति नहीं होगी, बड़ी सभाएं या मंडली का कार्यक्रम आयोजित नहीं होगा।

 

मंदसौर के भगवान पशुपतिनाथ मंदिर में भगवान का विशेष फूलों से सजाकर मनमोहक श्रंगार किया गया। अष्टमुखी बाबा पशुपतिनाथ मंदिर में रुद्रा अभिषेक के दौरान हजारों श्रद्धालु मौजूद रहे। वहीं 56 भोग के थाल बाबा के दरबार में सजाएं। भगवान पशुपतिनाथ को लगे नैवेध में में 56 तरह के पकवान है।

 

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी 2021 तिथि और मुहूर्त

 

हिंदू पंचांग के अनुसार, भाद्रमास के कृष्‍ण पक्ष की अष्‍टमी तिथि का आरंभ 29 अगस्‍त को रविवार को रात 11 बजकर 25 मिनट पर होगा। अष्‍टमी तिथि 30 अगस्‍त को रात में 1 बजकर 59 मिनट तक रहेगी। इस हिसाब से व्रत के लिए उदया तिथि को मानते हुए 30 अगस्‍त को जन्‍माष्‍टमी होगी। इसलिए देश भर में जन्‍माष्‍टमी 30 अगस्‍त को मनाई जाएगी। पूजा का शुभ मुहूर्त 30 अगस्‍त की रात को 11 बजकर 59 मिनट से 12 बजकर 44 मिनट तक रहेगा।

 

इस दौरान श्रद्धालुओं को कोरोना गाइड लाइन का पालन करते हुए दर्शन कराए गए। वहीं पन्ना के बलराम मंदिर में कृष्ण जन्मोत्सव से पहले उनके बड़े भईया बलदाऊ के जन्म का उत्सव मनाया गया। इस दौरान मंदिर परिसर में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ देखने को मिली। इस मंदिर में कृष्ण हर लेकर विराजमान हैं। वहीं कृष्णजन्मोत्सव की तैयारियां भी मंदिर में देखी गईं। ये मंदिर चर्च स्टाइल में बना हुआ है। मंदिर को दुल्हन की तरह सजाया गया। वहीं मथुरा में भी भगवान कृष्ण का मंदिर खूबसूरत फूलों से सजाया गया है जिसकी अद्भुत छटा देखते ही बन रही है।