सावन शिवरात्रि को भगवान शिव की आराधना करने से होती है मनोकामना पूरी, परंतु ना करें यह काम

सावन शिवरात्रि को भगवान शिव की आराधना करने से होती है मनोकामना पूरी, परंतु ना करें यह काम

हिंदू धर्म में सावन शिवरात्रि का विशेष महत्व होता है. इस दिन भगवान महादेव को प्रसन्न करने के लिए शिव भक्त व्रत रखकर विधि पूर्वक उनकी पूजा करते हैं। इससे भगवान शिव भक्तों की सभी मनोकामना पूरी करते हैं। शिव भक्तों को शिवरात्रि के दिन इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए कि वे इस दिन ये 6 कार्य बिलकुल भी न करें। वरना भगवान शिव नाराज हो जाते हैं। 

 

 

 

 

 

 

सावन शिवरात्रि का पूजा मुहूर्त

 

  1. चतुर्दशी तिथि प्रारंभ : 6 अगस्त शुक्रवार शाम 06 बजकर 28 मिनट से
  2. चतुर्दशी तिथि समाप्त : 7 अगस्त शनिवार शाम 07 बजकर 11 मिनट पर
  3. निशिता काल पूजा : 7 अगस्त शनिवार रात 12 बजकर 06 मिनट से 12 बजकर 48 मिनट तक
  4. पारण का समय : 8 अगस्त शनिवार सुबह 05 बजकर 46 मिनट से 03 बजकर 45 मिनट तक

 

 

 

 

 

सावन शिवरात्रि व्रत के दौरान इन चीजों का रखें खास ध्यान

  1. सावन शिवरात्रि व्रत को काले रंग के कपड़े बिल्कुल भी नहीं पहनने चाहिए.
  2. सावन शिवरात्रि व्रत में व्यक्ति को क्रोध नहीं करना चाहिए वरना भगवान शिव नाराज होते हैं. इससे उनकी कृपा नहीं होती है.
  3. सावन शिवरात्रि व्रत में किसी भी कीमत पर खट्टी चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए. इससे व्रत का शुभ लाभ कम हो जाता है.
  4. सावन शिवरात्रि व्रत के दिन व्रती को किसी भी व्यक्ति के लिए अपने मन में बुरे विचार नहीं लाना चाहिए.
  5. सावन शिवरात्रि व्रत के दिन तामसी भोजन से दूर रहना चाहिए. संभव हो तो तामसिक भोजन करने वाले लोगों से उचित दूरी बनाकर रखें.
  6. सावन शिवरात्रि व्रत के दिन घर परिवार में शांति और सौहार्द बनाये रखना चाहिए, घर में किसी से भी किसी तरह के झगड़े को पूरी तरह से रोकना चाहिए।